टेरिटोरियल आर्मी में अफसर कैसे बनें | टेरिटोरियल आर्मी क्या है

दोस्तों आज हम भारतीय सेना के टेरिटोरियल आर्मी के बारे में बात करने जा रहे हैं कि टेरिटोरियल आर्मी में अफसर कैसे बनें | टेरिटोरियल आर्मी क्या है| इस पोस्ट में हम भारतीय थल सेना के प्रादेशिक सेना या टेरिटोरियल आर्मी के बारे में बात करेंगे |

टेरिटोरियल आर्मी या प्रादेशिक सेना क्या है

टेरिटोरियल आर्मी में आप देश के आम नागरिक रहते हुए सैन्य अनुभव ले सकते हैं। यह एक वॉलंटियर सर्विस होती है। आपको ट्रेनिंग देने के बाद जरूरत पड़ने पर सेना आपकी सेवा ले सकती है। ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो कुछ वजहों से सेना में भर्ती नहीं हो पाते, ऐसे युवाओं को सेना टेरिटोरियल आर्मी भर्ती के जरिए देश सेवा का एक और मौका देती है। 

आप ऐसे समझ लीजिये कि प्रादेशिक सेना (Territorial Army/TA) भारतीय सेना की एक ईकाई तथा सेवा है। इसके स्वयंसेवकों को प्रतिवर्ष कुछ दिनों का सैनिक प्रशिक्षण दिया जाता है ताकि आवशयकता पड़ने पर देश की रक्षा के लिये उनकी सेवायें ली जा सकें।

टेरिटोरियल आर्मी ने 1962, 1965 और 1971 की लड़ाई में हिस्‍सा लिया है। इसके अलावा प्राकृतिक आपदाओं के समय जरूरी सेवाओं को बहाल करने में यह सेना अहम भूमिका निभाती है।टेरिटोरियल आर्मी के वॉलंटियर्स साल में दो-तीने महीने सर्विस देते हैं। जरूरत पड़े तो वे देश की रक्षा के लिए हथियार उठा सकते हैं। उन्‍हें देहरादून की इंडियन मिलिट्री एकेडमी में ट्रेनिंग दी जाती है। अगर ऐडिशनल मिलिट्री ट्रेनिंग चाहें तो उसका भी विकल्‍प है। यह एक तरह से भारतीय सेना को सपोर्ट देने के लिए बनी फोर्स है जिसे नागरिक कार्यों के लिए भी इस्‍तेमाल किया जाता है।

ये भी पढ़े – सेना में अधिकारी कैसे बने

महेंद्र सिंह धोनी, कपिल देव, अभिनव बिंद्रा, सचिन पायलट, अनुराग ठाकुर जैसी हस्तियां भारतीय सेना में मानद पद पर टेरिटोरियल आर्मी के तहत ही कार्यरत हैं

भारतीय संविधान सभा द्वारा सितंबर, १९४८ ई. में पारित प्रादेशिक सेना अधिनियम, १९४८, के अनुसार भारत में अक्टूबर, १९४९ ई. में प्रादेशिक सेना स्थापित हुई। इसका उद्देश्य संकटकाल में आंतरिक सुरक्षा क दायित्व लेना और आवश्यकता पड़ने पर नियमित सेना को यूनिट (दल) प्रदान करना तथा इस प्रकार नवयुवकों को देशसेवा का अवसर प्रदान करना है। सामान्य श्रमिक से लेकर सुयोग्य प्राविधिज्ञ तक भारत के सभी नागरिक, जो शरीर से समर्थ हों, इसमें भर्ती हो सकते हैं। आयुसीमाएँ १८ और ३५ वर्ष हैं, जो सेवानिवृत्त सेनिकों और प्राविधिज्ञ सिविलियनों के लिए शिथिल की जा सकती हैं।

2021 प्रादेशिक सेना भर्ती – टेरिटोरियल आर्मी भर्ती – सेना में अधिकारी बनने का मौका

Sena bharti 2021, Indian Army Recruitment 2021: भारतीय सेना ने प्रादेशिक सेना अधिकारी (Territorial Army Officer) के पद पर भर्ती निकाली है। 

 भारतीय सेना (Indian Armry) में भर्ती होने का शानदार मौका है। भारतीय फौज ने प्रादेशिक सेना अधिकारी (Territorial Army Officer) के पद पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है। ऑनलाइन आवेदन, 20 जुलाई से शुरू हो चुके हैं। इच्छुक उम्मीदवार 19 अगस्त 2021 या इससे पहले तक आवेदन कर सकते हैं।

इंडियन आर्मी द्वारा टेरिटोरियल आर्मी ऑफिसर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा 26 सितंबर 2021 को आयोजित की जाएगी। 

शैक्षिक योग्यता: किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त कर चुके उम्मीदवारों के लिए आवेदन करने अच्छा मौका है।
आयु सीमा: आवेदन करने के लिए योग्य उम्मीदवारों उम्र 19 अगस्त को कम से कम 18 वर्ष और 42 वर्ष से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

चयन प्रक्रिया
जिन उम्मीदवारों के एप्लीकेशन फॉर्म सही पाए जाते हैं, उन्हें लिखित परीक्षा और क्वावीलफाई होने वाले उम्मीदवारों को स्क्रीनिंग टेस्ट देना होगा। लिखित परीक्षा का सिलेबस और पैटर्न चेक करने के लिए नीचे दिए गए नोटिफिकेशन लिंक पर विजिट करें।

आवेदन शुल्क
उम्मीदवारों को फॉर्म के साथ 200 रुपये ऑनलाइन फीस का भुगतान करना होगा।

वेतन
भारतीय सेना भर्ती 2021 अभियान के माध्यम से टेरिटोरियल आर्मी के पदों पर चयनित उम्मीदवारों को 7th cpc के तहत 2 लाख रुपये से ज्यादा 2 लाख रुपये से ज्यादा वेतन दिया जाएगा।

 मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या संस्थान से किसी विषय में स्नातक डिग्री प्राप्त की हो।
– आवेदक शारीरिक और चिकित्सकीय रूप से स्वस्थ होना चाहिए। 

आयु सीमा : न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 42 वर्ष। 

वेतनमान  : 56,100 से 1,77,500 रुपये। साथ में 15500 रुपये मिलिट्री सर्विस ग्रेड पे मिलेगा। 

LEAVE A REPLY