शॉर्टहैंड क्या है- Shorthand क्या होता है | आशुलिपि (Steno) के बारे में पूरी जानकारी

इस पोस्ट में हम आपको स्टेनोग्राफर के बारे में बताने जा रहे हैं- शॉर्टहैंड क्या है- Shorthand क्या होता है | आशुलिपि (Steno) के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में| (स्टेनो) Shorthand क्या होता है और इसका क्या उपयोग होता है इसके बारे में बहुत कम लोगो को पता होगा| स्टेनोग्राफी एक लैंग्वेज है, इस लैंग्वेज को कोडिंग लैंग्वेज या शार्ट हैंड भी कहा जाता है | इसमें किसी स्पीच को शार्ट में लिखना सिखाया जाता है | इसका प्रयोग करने वाले व्यक्ति को स्टेनोग्राफर कहा जाता है, सरकार के लगभग सभी विभाग में स्टेनोग्राफर की आवश्यकता होती है  

आशुलिपि (Steno) Shorthand क्या होता है

आशुलिपि की परिभाषा  आशुलिपि एक ऐसी विधि है लिखने की जिसमें एक आशुलिपिक सामान्य रूप से लिखे जाने वालेे लेखन की अपेक्षा अधिक तेजी से लिख सकता है। और इसमें भिन्न-भिन्न छोटे-छोटेे प्रतीकों का समावेश किया जाता है। आशुलिपि में लिखें जाने वाले लेख को आशु लेखन कहते हैं आशु लेखन का तात्पर्य तीव्र और संक्षिप्त लेखन सेे है। हिंदी में इसे शीघ्र लेखन कहते हैं। यह भाषा सामान्य शब्दों को तेज गति से लिखने के लिए काम में ली जाती है| ज्यादातर पत्रकार लोग इस भाषा का उपयोग करते हैं क्योंकि शॉर्टहैंड तेज गति से लिखने के लिए सबसे ज्यादा अच्छी है| शॉर्टहैंड का Use सरकारी दफ्तरों में भी होता है इसलिए शॉर्टहैंड सीखने वाले लोगों को सरकारी नौकरी के लिए आशुलिपिक पद पर Apply जरूर करना चाहिए क्योंकि इस पद पर बहुत कम लोग आवेदन करते हैं|

शॉर्टहैंड का उपयोग सरकारी दफ्तरों में भी होता है इसलिए शॉर्टहैंड सीखने वाले लोगों को सरकारी नौकरी के लिए आशुलिपिक पद पर अप्लाई जरूर करना चाहिए क्योंकि इस पद पर बहुत कम लोग आवेदन करते हैं|

Short Hand को हिंदी में आशुलिपि कहते हैं जो कि तेज गति से लिखने के लिए काम में ली जाती है इंसान के बोलने तक की स्पीड को शॉर्टहैंड के द्वारा तेज गति से लिखा जा सकता है शार्टहैंड, आशुलिपि और स्टेनो एक ही चीज होती है

Related Keywords : शॉर्टहैंड क्या है- Shorthand क्या होता है | आशुलिपि (Steno) के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में| (स्टेनो) Shorthand क्या होता है , स्टेनोग्राफर कैसे बने, Stenographer Kaise Bane

1 First Of All आपको हिंदी या English शॉर्टहैंड सीखनी होगी, जो की एक Coding होती है, हिंदी वर्णमाला  फिर इंग्लिश वर्णमाला की, जो आपको सिखाई जाएगी। उसके बाद आपको Hindi या इंग्लिश Typing सीखनी होगी।
2   अगर आप एक अच्छे स्टनॉग्रफर बनना चाहते हैं तो आपको शॉर्टहैंड  अपनी गति बढ़ानी होगी क्योकि आप किसी भी stenographer के Competition Exam में प्रति भाग लेंगे तो वहां पर 80 80 words per minutes की गति या फिर उससे अधिक या कम  की गति होना अनिवार्य होता है।
3 जब आपकी शॉर्टहैंड की गति 80 words per minutes या फिर उससे अधिक की रहेगी और उसके साथ साथ टाइपिंग स्पीड भी कम से कम 30 words per minutes रहेगी तभी आप स्किल टेस्ट की परीक्षा को उत्तीर्ण कर पाएंगे।

4 Steno विभिन्न प्रकार के प्रणालियों  में आता है, तो इसीलिए आपको ध्यान रखना होगा की आप जब शॉर्टहैंड सिखने जाये तो इस बात का ध्यान रखे की आप किस प्रणाली से स्टेनोग्राफी (शॉर्टहैंड )सीखना चाहेंगे क्योकि यही चीज आपको ध्यान में रखना है की जो प्रणाली सबसे आसान हो और जिसे लिखने पढ़ने और समझने में आसानी हो उसी प्रणाली को आपको सीखना है ताकि आप कम से कम समय में अपनी stenography को सिख सके और अपने भविष्य को अपने सपने को उसकी मंज़िल तक पहुंचा सके, और अपने पेरेन्टस  का नाम रोशन करें।

आशुलिपि (Steno) के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में

स्टेनोग्राफर कितने प्रकार के होते हैं– Types of Steno or Shorthand

  1. Hindi स्टेनोग्राफर जो Hindi Language को तेज गति से Shorthand में लिख सकते हैं|
  2. English स्टेनोग्राफर जो कि English Language को Shorthandमें लिख सकते हैं

सरकारी नौकरी में Shorthand की Requirement

हिंदी या इंग्लिश किसी भी भाषा में शॉर्टहैंड सीखने के बाद सरकारी नौकरी लगने के चांस ज्यादा होते हैं क्योंकि इन क्षेत्र में कंपटीशन कम होता है| राज्य स्तर पर और केंद्र स्तर पर स्टेनोग्राफर के सरकारी पद बहुत निकलते हैं| SSC खुद इन क्षेत्र में आवेदकों के लिए नोटिफिकेशन जारी करता है|
राज्य स्तर पर न्यायालय में स्टेनोग्राफर के पद निकलते हैं जोकि भाषाओं को तेज गति से लिखने के लिए बहुत जरूरी होता है

दूसरे क्षेत्रों में 10th और 12th pass करने के बाद job के लिए अप्लाई कर देते हैं और ऐसे में Compition बढ़ जाता है| स्टेनोग्राफर में आपको सबसे पहले स्टेनो और स्टेनो के साथ उसी भाषा में टाइपिंग भी सीखनी पड़ती है तब जाकर आप इस Stenographer पद के लिए कहां Apply कर सकते हैं

यहां पर एक बात जाना आपको बहुत ज्यादा जरुरी है अगर कोई हिंदी भाषा में स्टेनो सीख रहा है तो उसे Hindi भाषा की Typing भी आनी चाहिए
अगर कोई इंग्लिश भाषा की स्टेनो सीख रहा है तो उसको English में Typing आना जरूरी है

(आशुलिपि) Short-hand Or Steno कहाँ से सीखे

दोस्तों अगर आप स्टेनोग्राफर बनना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको शॉर्ट एंड सीखना पड़ता है और इसके लिए आप अपने नजदीक के शहर में किसी भी इंस्टिट्यूशन से सीख सकते हैं या फिर किसी टाइपिंग सेंटर में भी आप शॉर्टहैंड को सीख सकते हैं सीखते वक्त आपको यह ध्यान देने की जरूरत है किसी संस्थान से आप शॉर्ट एंड सीख रहे हैं तो वह संस्थान मान्यता प्राप्त है कि नहीं| स्टेनोग्राफर बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी और रेगुलर प्रैक्टिस करनी होगी अच्छी स्पीड आपके रेगुलर प्रैक्टिस के ऊपर ही निर्भर करती है इसीलिए आप सीखने के साथ-साथ रेगुलर प्रैक्टिस पर भी बहुत ध्यान दें

जिन युवाओं का रुझान सरकारी नौकरी की तरफ है और वह प्रतिष्ठित नौकरी करना चाहते हैं तो स्टेनोग्राफी का कैरियर उनके लिए एक अच्छा विकल्प है 10वीं या 12वीं परीक्षा उत्तरण करने के बाद आप स्टेनोग्राफर के लिए अलग-अलग विभागों में विज्ञापनों के आधार पर आवेदन कर सकते हैं

स्टेनोग्राफर का अपने अधिकारी के प्रति विश्वसनीय बने रहना अत्यंत ही आवश्यक है इस पद पर काम कर करना आपकी निष्ठा और विश्वास की परीक्षा लेता है न्यायिक सेवाओं में तो स्टेनोग्राफर की बहुत ही ज्यादा मांग है वैसे भी अगर आप किसी सरकारी पद पर कार्यरत हैं तो आपसे गोपनीयता अपेक्षित है|
स्टेनोग्राफी आशय होता है संक्षिप्त लेखन जिसे अंग्रेजी में शॉर्टहैंड कहा जाता है एक प्रकार की लेखन विधि होती है। हमारे देश में स्टेनोग्राफर के पद अदालतों, शासकीय कार्यालयों, मंत्रालयों, रेलवे विभागों में होते हैं। स्टेनोग्राफर का कोर्स करने के लिए कड़े परिश्रम की आवश्कता होती है, क्योंकि इस भाषा में शब्द गति होना आवश्यक है।

तो दोस्तों यह थी जानकारी शॉर्टहैंड क्या है स्टेनो क्या है या आशुलिपि क्या है शॉर्टहैंड कहां से सीखे शॉर्टहैंड के क्षेत्र में या शॉर्टहैंड सीखने के बाद क्या-क्या रोजगार के अवसर है सरकारी विभागों में शॉर्ट हैंड लिखने वालों या स्टेनोग्राफर की क्या जिम्मेदारी होती है अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो कृपया शेयर जरूर करें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY