ग्राफिक डिजाइनर कैसे बने – ग्राफ़िक्स डिजाइनिंग में करियर की जानकारी

5
4514
0
0

दोस्तों आज की दुनिया ग्राफ़िक्स और कंप्यूटर की दुनिया है | आज कल ग्राफ़िक्स डिजाईन का स्कोप बहुत ज्यादा बढ़ गया है | अब प्रश्न ये है कि ग्राफिक डिजाइनर कैसे बने| या ग्राफ़िक्स डिजाइनिंग में करियर कैसे बनायें |[Career  in Graphics Designing]

अगर आप  क्रिएटिव हैं और क्रिएटिविटी की दुनिया में कुछ नया करने की चाहत है, तो ग्राफिक डिजाइनिंग का करियर आपके लिए बेहतरीन साबित होगा. क्योकि ग्राफ़िक्स डिजाइनिंग का आधार आप की क्रिएटिविटी ही है | दोस्तों  विजुअल और ग्राफिक आर्ट का इन दिनों इस्तेमाल बहुत बढ़ गया है इसीलिए यहां संभावनाएं भी काफी ज्यादा .अगर आपको कंप्यूटर पर काम करना पसंद है और साथ ही आप क्रिएटिव भी हैं , तो ग्राफिक डिजाइनिंग आपके लिए एक अच्छा करियर ऑप्शन साबित हो सकता है। वहीं, ये बिलकुल जरूरी नहीं कि आप इसके लिए किसी इंस्टीट्यूट से कोर्स करें, बल्कि घर बैठे ही आप इस फील्ड में अपना ब्राइट करियर बना सकते हैं। बस आपके पास होना चाहिए कंप्यूटर और इंटरनेट की सुविधा होनी चाहिए।

ग्राफ़िक्स डिज़ाइनर करते क्या हैं- ग्राफिक डिजाइनर कैसे बने

आखिर ये ग्राफ़िक्स डिज़ाइनर करते क्या हैं ? तो चलिए समझते हैं कि ग्राफ़िक्स डिज़ाइनर का काम क्या है ? ग्राफिक डिजाइनर का काम प्रोग्राम को अट्रैक्टिव बनाना है। ग्राफिक डिजाइन वह आर्ट है, जिसमें टेक्स्ट और ग्राफिक के द्वारा किसी मेसेज को लोगों तक इफेक्टिव तरीके से पहुंचाया जाता है। यह मेसेज ग्राफिक्स, लोगो, ब्रोशर, न्यूज लेटर, पोस्टर या फिर किसी भी रूप में हो सकता है।

यह काम डिजाइनर कलर, इलेस्ट्रेशन, फोटोग्राफ, एनिमेशन और अलग-अलग तरह के लेआउट्स के जरिए डिजाइन करता है। ग्राफिक डिजाइनर किसी पेज का ओवरऑल लेआउट बनाता है और फिर उसे अट्रैक्टिव लुक के साथ डिस्पले करता है, जिससे पढ़ने वाले को वह अच्छा लगे। प्रॉडक्ट को अलग पहचान दिलवाने में भी ग्राफिक डिजाइनर बेहद काम आता है।

क्‍या है ग्राफिक डिजाइनिंग:
ग्राफिक डिजाइनर का काम अपने क्लाइंट के लिए ऐसे क्रिएटिव आइडिया तैयार करना होता है, जो उसके क्लाइंट के इंस्‍टीट्यूट को या उसके व्यवसाय को अलग पहचान दे सकें. इस काम के लिए क्रिएटिविटी सबसे पहली जरूरत है. इसके अलावा, इंडस्ट्री के ट्रेंड्स की पूरी जानकारी, ग्राफिक डिजाइनिंग के क्षेत्र में नए सॉफ्टवेयर्स की जानकारी, प्रोफेशनल अप्रोच और काम को समय पर पूरी करने की योग्यता होनी भी जरूरी है.

कैसे करें ग्राफिक डिजाइन कोर्स की पढ़ाई:
ग्राफिक डिजाइन के क्षेत्र में आज तमाम तरह के कोर्स मौजूद हैं. फाउंडेशन कोर्स से लेकर चार साल तक के डिग्री कोर्स उपलब्ध हैं. योग्यता के रूप में स्‍टूडेंट्स को 12वीं पास होना जरूरी है. ग्रेजुएट और पोस्‍ट ग्रेजुएट के बाद भी कई डिप्लोमा एवं पीजी डिप्लोमा कोर्स कराए जाते हैं.

ग्राफिक डिजाइनिंग में कोर्स कौन कौन से हैं :
बैचलर इन फाइन आर्ट्स
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डिजाइन
ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डिजाइन
विजुअल कम्युनिकेशन डिजाइन
एडवरटाइजिंग ऐंडविजुअल कम्‍यूनिकेशन
एप्लाइड आर्ट्स ऐंड डिजिटल आर्ट्स
प्रिंटिंग ऐंड मीडिया इंजीनियरिंग

नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद ।
– जेड इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिएटिव आर्ट्स (जिका), मुंबई।
– एंट्रेस एनिमेशन ट्रेनिंग स्कूल, बैंगलुरु।
– डिपार्टमेंट ऑफ डिजाइन, आईआईटी, गुवाहाटी।
– टीजीसी एनिमेशन एंड मल्टीमीडिया, नई दिल्ली।
– माया एकेडमी ऑफ अडवांस सिनेमेटिक्स (मैक) मुंबई।
– एरीना एनिमेशन, मुंबई।
– वाडिया डिजाइन इंस्टीट्यूट, अहमदाबाद।
– रेस एनिमेशन कॉलेज, हैदराबाद।
– एकेडमी ऑफ एनिमेशन आर्ट्स ऐंड टेक्नॉलजी।

ग्राफिक डिजाइनिंग के प्रमुख संस्‍थान कहाँ कहाँ हैं :
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद
इंडस्ट्रियल डिजाइन सेंटर, आईआईटी, मुंबई
डिपार्टमंट ऑफ डिज़ाइन, आईआईटी, गुवाहाटी

ग्राफिक डिजाइनिंग का कोर्स करने के बाद कहां मिलेगी नौकरी:

अगरग्राफिक डिजाइनिंग के क्षेत्र में करियर की बात की जाए, तो ग्लोबलाइजेशन के मौजूदा दौर में इस फील्‍ड में रोजगार की बेहतर संभावनाएं हैं. सभी छोटे-बड़े संस्थान अपने लिए विजुअल ब्रैंड तैयार करवाते हैं. ग्राफिक डिजाइनर्स को वेबसाइट, एडवरटाइजिंग एजेंसी , किताबें, पत्रिकाएं, पोस्टर्स, कम्प्यूटर गेम्स, प्रोडक्ट पैकिजिंग, कॉर्पोरेट कम्यूनिकेशन, कॉर्पोरेट आइडेंडिटी जैसी जगहों पर अच्छे पैकिज में काम मिल जाता है.

विज्ञापन, एजेंसी, पब्लिक रिलेशन, न्यूज पेपर, एडवर्टाइजिंग एजेंसी, वेब पेज मैगजीन, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जैसे फील्ड में ग्राफिक डिजाइनर्स की बेहद डिमांड रहती है। खासतौर से फिल्म, विज्ञापन और एनिमेशन फील्ड में इनकी खूब डिमांड है। वहीं, पिछले कुछ सालों में फिल्मों में भी ग्राफिक डिजाइनर्स की मांग बढ़ी है। फिल्मों की बात करें तो बाहुबली के दोनों पार्ट्स में ग्राफ़िक्स डिजाइनिंग का बखूबी  प्रयोग किया गया है

एनिमेशन और डॉक्युमेंट्ररी फिल्मों में ग्राफिक डिजाइनर्स की आज कल डिमांड तेजी से बढ़ रही है। अगर पिछले कुछ सालों की फिल्मों पर हम निगाह  डालें, तो अवतार, टर्मिनेटर, कृष जैसी फिल्मों अपने ग्राफिक्स के कारण ही फेमस  हुईं।ग्राफिक के जरिए इनमें स्पेशल इफेक्ट का यूज खूब किया गया जो दर्शकों को काफी पसंद आया ।

इसके अलावा, उत्पाद के कई ग्राफिक डिजाइनर का यूज खूब किया जा रहा है। अब तो फैशन डिजाइनर्स भीअपनी डिजाइनिंग में इस आर्ट का खूब यूज करने लगे हैं। डिजाइनिंग को उभारने और उसे स्पेशल इफेक्ट देने में इसआर्ट का यूज डिजाइनर्स खूब कर रहे हैं। वहीं, पिछले चार- पांच सालों में एनिमेशन में भी ग्राफिक को यूज किया जारहा है। बात चाहे फिल्मों की करें या विज्ञापन की, एनिमेशन में ग्राफिक डिजाइनिंग अच्छा करियर ऑप्शन के तौरपर उभरा है।

ग्राफ़िक्स डिज़ाइनर को सैलरी कितनी मिलती है

आरंभ में ही इस फील्ड में 15 से 30 हजार रुपये ही मिलते हैं, लेकिन बाद में एक्सपीरियंस बढ़ने के साथ आपकी सैलरी एक-डेढ़ लाख तक पहुंच जाएगी।

तो दोस्तों ये थी जानकारी कि ग्राफ़िक्स डिजाइनिंग में करियर कैसे बनाये | अगर आप को ये पोस्ट पसंद आई हो तो प्लीज इसे लिखे ज़रूर करें

0
0

5 COMMENTS

  1. Mujhe to ye bhut achha lga i impressed or isme ek achi bat h kisi institute se course krna jruri ni h isse ek fayda h ki koi v kr skta h or isse kisi village me baithe students ka sapna pura ho skta h bhut achha h graphic designer bnana

    • धन्यवाद निशा जी … हम आपके graphic designer करियर के लिए शुभकामनाये देते हैं

  2. सर कुछ कोर्सेज के नाम बताओ कौन कोनसे कोर्स होते हे

  3. Thanku#mujhe apka post bahut accha laga..but ma janna chahti hun ki kya insub corses ko karne ke bad esme job kisi link se hi milta h..?aur agur nahi to plz guide kare..

    • जॉब की अपार सम्भावनाये हैं बस क्रिएटिविटी पर ध्यान देना ज्यादा आवश्यक है शिवानी | आप जॉब पोर्टल के थ्रू भी जॉब पा सकती हैं

LEAVE A REPLY

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)